बॉम्बे HC ने BARC इंडिया के पूर्व CEO की अर्जी पर सुरक्षित रखा फैसला

बॉम्बे हाई कोर्ट ने ‘टेलिविजन रेटिंग पॉइंट्स’ से छेड़छाड़ के मामले में गिरफ्तार ‘ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल’ (BARC) इंडिया के पूर्व चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (CEO) पार्थो दासगुप्ता की जमानत याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है।

मीडिया खबर के अनुसार, जस्टिस पीडी नायक की एकल पीठ ने विशेष लोक अभियोजनक शिशिर हिरेय और वरिष्ठ अधिवक्ता ऐबाद पोंडा द्वारा पेश दलीलों के बाद यह फैसला किया है।

हिरेय का अपनी दलीलों में कहना था कि हालांकि BARC में बतौर सीओओ रोमिल रामगढ़िया के पास फाइनेंस की जिम्मेदारी थी, दासगुप्ता के पास कंपनी में ज्यादा बड़ी जिम्मेदारी थी, क्योंकि वह कंपनी के सीईओ और एमडी थे। लोक अभियोजक का यह भी कहना था कि वॉट्सऐप पर की गई बातचीत से स्पष्ट है कि ‘रिपब्लिक टीवी’ के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी से दासगुप्ता के घनिष्ठ संबंध थे।

वहीं, वरिष्ठ अधिवक्ता ऐबाद पोंडा और अधिवक्ता अर्जुन सिंह ठाकुर ने राज्य को तर्कों का विरोध किया और अपनी दलीलें पेश कीं। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि ज्वेलरी, फोटो और रिपोर्ट्स अदालत में बेवजह दाखिल की गईं और इनका जांच से कोई संबंध नहीं है। दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद हाई कोर्ट ने इस मामले में अपना निर्णय सुरक्षित रख लिया है।